मुरैना के पुलिस वालों और सिम विक्रेता के खिलाफ सायबर क्राइम की शिकायतें दर्ज, सी एम हेल्पलाइन में दे रहे थे फर्जी जवाब और जाली सिमें दी गयीं थीं

 मुरैना 22 जनवरी , सायबर क्राइम विभाग , गृह मंत्रालय भारत सरकार ने मुरैना से नवंबर में पुलिसवालों तथा सिम विक्रेता डीलर के खिलाफ की गयी शिकायत को कल 21 जनवरी को अंतत: दर्ज कर शिकायत नंबर जारी कर दिया , उल्लेखनीय है कि मुकम्मल जांच के बाद ही सायबर विभाग गृहमंत्रालय भारत सरकार द्वारा , राज्य के प्रदेश स्तर के अधिकारियों की जानकारी और अनुशंसा के बाद ही शिकायत का विधिवत पंजीयन कर क्रमांक जारी किया जाता है । इस मामले में सिटी कोतवाली मुरैना के दो पुलिसकर्मियों और सिम विक्रेता डीलर को नामजद किया गया है , आवेदक की सिम 2019 में चोरी कर ली गयी थी , बाद में सिम स्वेप करा कर प्राप्त की गयी लेकिन सिम ने काम नहीं किया , इसके बाद सिम को पोर्ट कराया गया लेकिन इसके बावजूद तीन महीने तक सिम ने कोई काम नहीं किया , इस सिम को फिर से सितंबर 2020 में पोर्ट कराया गया लेकिन सिम पर नेटवर्क ही नहीं आया, बदल कर दुसरी नयी सिम भी दी गयी लेकिन उस सिम पर भी आज दिनांक तक नेटवर्क नहीं आया , आरोपीयों ने सी एम हेल्पलाइन पर की गयी शिकायत का कूटरचित व फर्जी जवाब दिया और न्यायालय के नाम का दुरूपयोग किया । तथा एक साल पहले समाप्त हो चुके तथा अंतिम तौर पर निर्णीत हो चुके एक प्रकरण में पुलिस द्वारा कोर्ट से गायब की गयी अपराध क्रमांक 663/02 सिटी कोतवाली मुरैना की केस डायरी और दस साल तक गायब रखने और सारे साक्ष्य व दस्तावेज नष्ट करने एवं सन 2002 से अभी तक चालान पेश नहीं करने जैसे तथ्य लिखित किये थे, क्लोनिंग सिम, क्लोनिंग डिवाइस, अवैध गैर लायसेंस्ड ड्रोन उड़ाने और चोरीयां करने आदि का शिकायत में उल्लेख किया गया था , कल यह शिकायत दर्ज कर क्रमांक जारी कर दिया गया । इसमें म प्र पुलिस पोर्टल पर दर्ज की गयीं 16 शिकायतों की आई डी का पासवर्ड और सिक्योरिटी प्रश्न व उनके उत्तर बदले जाने के सायबर क्राइम का भी उल्लेख था ‌ । 


उधर म प्र पुलिस पोर्टल पर भी सीधे डी जी पी म प्र को , दो शिकायतें दर्ज की गयीं है , दोनों शिकायतें थाना पुलिस मुख्यालय भोपाल ने प्राप्त कर ली हैं , यह प्रकरण सीधे डी जी पी म प्र द्वारा देखे जा रहें हैं , जिनमें सिलसिलेवार पुलिसकर्मियों के अपराधों का विस्तार से वर्णन कर उनके द्वारा की गयी चोरीयों करीब 25-30 लाख रू की तथा सायबर क्राइमों और सी एम हेल्पलाइन पर दिसंबर 2020 में दर्ज तीन अलग अलग शिकायतों में एक ही जवाब कापी पेस्ट करने और फर्जी व कूटरचित जवाब देने, मिथ्या साक्ष्य गढ़ने और उसका इस्तेमाल करने, न्यायालय के केस और आदेश की कूटरचना करने व उसका इस्तेमाल करने के और म प्र पुलिस पोर्टल की दो अलग अलग यूजर आई डी के पासवर्ड और सीक्रेट प्रश्न और उनके उत्तर बदलने संबंधी मामला दर्ज कराया गया है , इसमें एक आई डी में 16 शिकायतें और दूसरी आई डी में दो शिकायतें दर्ज हैं उल्लेखित कर पूर्द में दर्ज शिकायत की कापी संलग्न की गयी हैं , म प्र पुलिस पोर्टल पर भी पुलिसकर्मियों को नामजद करते हुये शिकायत दर्ज कराई गयी है , यह शिकायत 12 जनवरी को दर्ज की गयी है । 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें